Ads Top

बिहार चिकित्सा एवं जन स्वास्थ्य कर्मचारी हड़ताल पर गए स्वास्थ्य कर्मी, पैथोलॉजी व ओटी का कार्य हुआ बाधित

बिहार चिकित्सा एवं जन स्वास्थ्य कर्मचारी संघ (संविदा)के बैनर तले जिले के सभी संविदा वाले प्रायोगशाला प्रावैधिकी, शल्य कक्ष सहायक, ड्रैसर व फर्मासिस्ट अपनी मांगों के समर्थन में बुधवार से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए। हड़ताल के चलते सदर अस्पताल सहित जिले के अन्य अस्पतालों में स्वास्थ्य सेवा पर प्रतिकूल असर पड़ा। पैथोलॉजी, ओटी व आरएनटीसीपी में कार्य नहीं के बराबर हुआ। कार्यावधि में जिले के सभी संविदा वाले प्रायोगशाला प्रावैधिकी, शल्य कक्ष सहायक, ड्रैसर व फर्मासिस्ट सदर अस्पताल में जमा हो संघ के अध्यक्ष संगीता कुमारी व जिला मंत्री अश्विनी कुमारी झा के नेतृत्व में धरना पर बैठे रहे। संविदा कर्मियों का कहना था कि मांगे पूरी होने तक हड़ताल जारी रहेगा। साथ ही उन्होंने ने कहा कि हमारी मांगें संविदा कर्मी को नियमित करने, बीएसएससी की बहाली प्रक्रिया अविलम्ब करने, हटाए गए संविदा कर्मी को अविलम्ब सेवा में वापस करने तथा समान काम का समान वेतन देना है। धरना पर बैठे कर्मियों ने कहा कि हम सभी आठ वर्षो से कार्य कर रहे हैं। मई 2015 में भी इन्हीं मांगों को लेकर हड़ताल किए थे। तब विभाग की ओर से मांगे मान लिए जाने का आश्वासन मिला था। एक तरफ विभाग द्वारा संविदा पर बहाल करने का आदेश दिया जाता है तो दूसरी ओर आठ वर्ष से कार्य कर रहे संविदा कर्मी को हटाया जा रहा है। ऐसे में विभाग की क्या मंशा है वह साफ-साफ झलक रहा है। धरना स्थल पर आशीष कुमार ¨सह, ठाकुर चंदन, मुकेश साह, संजीव साह, बैद्यनाथ, रत्नेश्वर बैठा, बिनोद कुमार, शंभू, नितेश कुमार, विजय साहनी सहित अन्य मौजूद थे। - See more at: http://www.jagran.com/bihar/supaul-medical-staff-strike-15887104.html#sthash.lfiUqbPK.dpuf


Sarkari Niyukti

No comments:

Powered by Blogger.