Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Advertisment

May 28, 2017

शुगर का इलाज की आसान उपाय

शुगर का इलाज की आसान उपाय

डाइयबिटीस (मधुमेह) होने का सब से बड़ा कारण है जागरूकता ना होना. बहुत से लोगो को इस रोग के बारे में तब पता  चलता है जब उनका ब्लड शुगर लेवेल काफ़ी बढ़ जाता है. अगर सही समय पर इस बीमारी के लक्षानो को पहचान कर उपचार किया जाए तो इसे बढ़ने से रोका जा सकता है और शुगर से बचने के उपाय भी किए जा सकते है. डाइयबिटीस 2 तरीके की होती है टाइप 1 और टाइप 2. कुछ लोग शुगर कंट्रोल में रखने के लिए Allopathic दवा  (मेडिसिन) का सहारा लेते है पर आप घर पर ही देसी दवा  और Ayurveda उपचार से शुगर की बीमारी का इलाज कर सकते है. आइए जाने नॅचुरल आयुर्वेदा शुगर का इलाज की आसान उपाय इन हिन्दी.

ब्लड में शुगर का लेवेल बढ़ने से कई तरह की हेंल्थ प्राब्लम हो सकती है. अगर शुगर लेवेल लगातार बढ़ा रहे तो टाइप 2 डाइयबिटीस का ख़तरा बाद जाता है. जिन लोगो को पहले से शुगर प्राब्लम है उनके लिए शुगर कंट्रोल में रखना बेहद ज़रूरी है.

शुगर का इलाज की आसान उपाय
शुगर कैसे होता है

अधिकतर रोगो की तरह डाइयबिटीस होने का प्रमुख कारण है अनबॅलेन्स्ड लाइफस्टाइल और खाने पीने की ग़लत आदते जेसे समय पर भोजन ना करना, जाड़ा मीठा खाना, मोटापा, तंबाको, स्मोकिंग, और स्ट्रेस.
शुगर के लक्षण कैसे पहचाने : 

अगर शुरुआत में ही शुगर के लक्षण पहचान कर शुगर का इलाज किया जाए तो इस बीमारी को बढ़ने से रोक सकते है.

    बार बार पेशाब आना
    घाव जल्दी ठीक ना होना
    जल्दी थकान महसूस होना
    बार बार स्किन Infection होना
    भूख और प्यास ज्यादा  लगना
    अगर आप को भी ये संकेत दिखे तो तुरंत शुगर टेस्ट करवाए.




शुगर कम करने के उपाय टिप्स इन हिन्दी

जिन लोगो को हाइ डाइयबिटीस की प्राब्लम रहती है उन्हे शुगर कंट्रोल में रखने के लिए इंसुलिन के इंजेक्षन्स लगाने पड़ते है पर ये कोई ट्रीटमेंट नही है. शुगर होने पर घबराए नही, अगर आप कुछ बातो का ध्यान रखे और सही तरीके से उपचार करे तो विदाउट मेडिसिन और इंजेक्षन के भी आसानी से डाइयबिटीस का इलाज कर सकते है.

1. करेले का जूस डाइयबिटीस कंट्रोल करने में काफ़ी असरदार है. करेले के बीज निकल कर उसका रस सुबह खाली पेट पीना चाहिए, इसके इलावा आप करेले की सब्जी भी अपनी डाइयेट में शामिल कर सकते है.

2. दालचीनी और अदरक बॉडी में इंसुलिन का लेवेल मेनटेन रखते है, इन्हे अपने खाने में शामिल कर सकते है और छाई में भी इनका प्रयोग  कर सकते है.

3. जामुन भी ब्लड में शुगर के लेवेल को कंट्रोल करने में काफ़ी मदद करता है. जामुन की हर चीज़ का प्रयोग  किया जा सकता है जेसे जामुन के पेड़ के पत्ते, जामुन के बीज और जामुन.

4. आवला को आयुर्वेदा में उत्तम  औषधि माना जाता है. आवला में विटामिन सी होता है, आप इसका रस करेले के जूस में मिलकर भी ले सकते है.

5. गेंहू का ज्वरा (Wheetgrass) को धरती की संजीवनी बूटी से भी जानते है इसमे हर प्रकार के nutritions मौजूद होते है. डाइयबिटीस के पेशेंट्स के लिए Wheetgrass जूस पीना काफ़ी फयदेमंद है.
शुगर नॉर्मल कितना होना चाहिए

    70 से 100 मिलिग्रॅम नॉर्मल व्यक्ति का शुगर लेवेल होता है पर डाइयेबेटिक पेशेंट का शुगर लेवेल 180 तक हो सकता है. 240 का शुगर लेवेल हाइ माना जाता है और जब ये लेवेल 300 से भी अधिक हो जाए तो ये रोग गंभीर हो जाता है.

शुगर  कंट्रोल टिप्स इन हिन्दी

1. योगा के कुछ आसान Step है जो शुगर कम करने में मददगार है. प्राणायाम, सेतुबंधसन, वज्रासना, हलासना, सर्वंगासना, और पासचिमोट्तनसाना. इन योगासन को करने से पहले इन्हे करने का सही तरीका ज़रूर सीखे. आप किसी योग गुरु या फिर बाबा रामदेव की वीडियोस से भी सिख सकते है.

2. ग्रीन टी का सेवन भी डाइयबिटीस कंट्रोल करने में असरदार है. ग्रीन टी में आंटीयाक्सिडंट होते है जो ब्लड शुगर लेवेल को मेनटेन करने में मदद करते है. ग्रीन टी बिना चीनी के पिए.

3. दही, छाछ, सलाद, ओटमील जेसे लो कॅलरी फुड अपनी डाइयेट में शामिल करे इनसे शरीर में इंसुलिन लेवेल कंट्रोल में रहता है और बॉडी में ग्लूकोस नही बढ़ता.

4. वाइट ब्रेड और राइस के मुक़ाबले ब्राउन ब्रेड और ब्राउन राइस में फिबेर जाड़ा होते है जिससे डाइजेशन अछा रहता है.

5. चीनी का सेवन कभी ना करे और जितना हो सके शुगर फ्री टॅबलेट के सेवन से भी परहेज करे.




शुगर से बचने के उपाय इन हिन्दी

    रात का भोजन सूर्यास्त से पहले कर ले.
    नॉर्मल टी और कॉफी के सेवन से बचे.
    ऐसें चीज़े अधिक खाए जिन में फिबेर की मात्रा जाड़ा हो.
    फास्ट फुड खाने से बचे इसमे शुगर, नमक और कारबोहाइड्रेट्स फट काफ़ी जाड़ा होता है.
    पानी अधिक मात्रा में पिए इससे बॉडी Hydration रहती है और डाइजेशन भी अछा होता है.
    शराब स्मोकिंग और तंबाकू जेसे हानिकारक चीज़ो से दूर रहे और एक Healthy लाइफस्टाइल अपनाए.
    एक बार में पेट भर खाने की बजे दिन में 4 से 5 बार थोडा थोडा  खाए और सुबह का ब्रेकफास्ट ज़रूर करे.
    एक्सर्साइज़ और योगा से बॉडी का Metabolism तेज होता है जिससे कॅलरी और Fat बर्न करने में मदद मिलती है और ब्लड सर्क्युलेशन बेहतर होता है.
    जाड़ा स्ट्रेस ना ले. तनाव लेने से शरीर में ऐसें  केमिकल्स बनते है जिससे इंसुलिन बनने के प्रोसेस पर असर पड़ता है. मेडिटेशन और योगा से स्ट्रेस कम करने में मदद मिलती है.

शुगर संबधित प्रोडक्ट जानकारी के लिये यहा क्लिक करे  

B01D4UQNN0
₹300.00
₹189.00
B010BEF7FW
₹400.00
B01COTDU3S
₹490.00
B015XV5NE8
₹110.00
0593075684
₹599.00
₹449.00
B01KI3ZP0S
₹350.00
B014WCNG3Y
₹205.00
B01HIFEMOE
₹320.00
B01I23KUP6
₹960.00
B01BOQCQDW
₹320.00
B01GWY3EZU
₹248.00
B002QWMPJ4
₹1,940.00
₹1,125.00
B01HBAKGPK
₹189.00
9350570971
₹120.00
₹88.00
B01L7XNBGS
₹449.00
B01LXIBW1Q
₹100.00
B004W90A4Q
₹325.00
B00FR8V888
₹267.00
B01N5XX4KK
₹110.00
B06XDCQYQX
if you have any information regarding Job, Study Material or any other information related to career. you can post your article on our blog.
For Advertisment email us at talkduo@gmail.com

FOLLOW BY EMAIL

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notification of new posts by email.

No comments:

Post a Comment