Ads Top

Recent Jobs Admit Card Result Material Ebook Bank Railway SSC UPSC BPSC PSC Exam UPSC Notes

भोजपुरी संगीत के अच्छे दिनों की याद दिलाता “होली हमरा ना भावे”

फगुआ के गीतन में विविधता बा , फगुआ माने खलिहा जोगीरा आ कबीरा ना ह , फगुआ मे बिरह बा ठिठोली बा महीनी बा बोलबाजी बा । फगुआ के गीतन में सामाजिकता बा , धार्मिक सनेश बा । अक्सर गांवे गवनई में फगुआ के क गो रुप देखे के सुने के मिलेला ।
आज के तारीख में जदि चंदन तिवारी , शैलेंदर मिसिर , सुरेन्दर कुमार , शारदा सिन्हा , भरत शर्मा , गोपाल राय आ कुछ एक गायक गायिका के छोड़ दिहल जाउ त युट्युब प अधिकतर गीत फगुआ के नाव प एकरुपता के ले ले बा , फुहरपन से भरल बा ।
अइसना समय में नियो बिहार , नितिन चंद्रा , नीतू चंद्रा , के टीम एह बिडियो ले के आइल बिआ । बलिया , युपी के शैलेंदर मिसिर के आवाज में सेमी क्लासिक , फोक के आवाज में फ्युजन , आशुतोष सिंह जी के संगीत से भरल एह विडियो गीत में नीतू चंद्रा आ मो. अली शाह के अभिनय बा ।
एक तरह से क्लासिकल आ फ्युजन के अदभुत प्रयोग बा , संगीत एकदम हट के , शैलेंन्दर के आवाज के बाजीगरी आ जादूगरी में कर्णप्रिय बन गइल बा । पहिले पहिल हम कइनी छठ आ फेरु चौथा क्लास के ड्राईंग के बाद फगुआ प एह विडियो के प्रस्तुति भोजपुरी गीत संगीत आ सिनेमा के क्षेत्र में बदलाव के दस्तक के पुरजोर तरिका से राख रहल बड़ुवे ।
holi hamraa na bhaaveविडियो के थीम एगो फौजी से जुड़ल बड़ुवे , जे सीमा प बा , तीज त्योहार परब के बात बा , ओहि थीम के ले के विरह के भाव , जवन भोजपुरी क्षेत्र के अक्सर विरहिन के अखड़त रुप देखावे ला । एह विडियो फिल्म के गीत के एक एक शब्द अपना के भोजपुरिया क्षेत्र , संस्कार से जोड़ रहल बड़ुवे । लहुरा देवर , कागा के उचरल जइसन भाव बिरहिन के भाव के त देखाइये रहल बा संगे संगे भोजपुरी के आपन ठेठपन आ शास्त्रीयता के देखा रहल बा ।
 

Do you like the article? Share this Or have an interesting story to share? Please Click here or write to us at talkduo@gmail.com, or connect with us on Facebook and Twitter.

No comments:

Powered by Blogger.