Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Advertisment

February 18, 2017

बिना बताए देशभर के एक करोड़ किसानों के खातों से काटे 990 करोड़ रुपये

बिना बताए देशभर के एक करोड़ किसानों के खातों से काटे 990 करोड़ रुपये

बैंकों में जमा राशि अमूमन सुरक्षित मानी जाती है, लेकिन अब यहां भी सेंध लग गई है। देश के सबसे बडे़ सरकारी बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआइ) ने केसीसी धारक किसानों के खातों से मौसम की जानकारी देने के नाम पर उनकी बिना सहमति के 990 रुपये काट लिए।

पूरे देश में एक करोड़ एक लाख केसीसी धारक किसानों से 990 करोड़ रुपये काटे गए। इनमें मप्र के छह लाख किसानों के 60 करोड़ हैं। ये राशि ऐसी सुविधा के नाम पर वसूली गई है, जो केंद्र सरकार टोल-फ्री नंबर के जरिए पहले से ही किसानों को मुफ्त में उपलब्ध करा रही है।


इस गड़बड़झाले का पर्दाफाश तब हुआ, जब विदिशा के नटेरन तहसील के नोराजखेड़ी गांव के किसान हजारीलाल शर्मा के पास बैंक से फोन आया, जिसमें उनके खाते से 990 रुपये की राशि मौसम की जानकारी के नाम पर काटने की जानकारी दी गई। शर्मा ने लिखित शिकायत की, लेकिन बैंक प्रबंधन ने राशि वापस नहीं की। इस बारे में जब नटेरन एसबीआइ शाखा के मैनेजर बीएस बघेल से बात की गई तब पूरे गोलमाल का पता चला।

बघेल ने बताया कि बिना मंजूरी लिए ब्रांच के साथ देशभर के किसानों के खातों से बैंक की मुंबई स्थित मुख्य शाखा से यह राशि काटी गई। इधर, एसबीआइ की कृषि शाखा के मुख्य महाप्रबंधक जितेंद्र शर्मा भी मानते हैं कि बैंक ने मौसम की सूचना के नाम पर किसानों से राशि ली, लेकिन यह राशि किसानों से सहमति पत्र भरवाकर ली, जबकि किसान विष्णु दांगी, नत्थू सिंह रघुवंशी जैसे कई किसान इससे साफ इनकार कर रहे हैं। उनका कहना है कि मोबाइल पर मौसम की जानकारी के एसएमएस आ रहे हैं और बैंक ने 990 रुपये भी काट लिए।


ये है 990 करोड़ का गणित

एसबीआइ की वेबसाइट के अनुसार देशभर में उसके लगभग एक करोड़ एक लाख केसीसी धारक हैं। यदि एसबीआइ के एक करोड़ ग्राहक भी यह सुविधा हासिल करते हैं तो इसके लिए किसानों से करीब 990 करोड़ रुपये की राशि वसूली गई।

आरएमएल के जरिए 500 ब्रांचों में उपलब्ध हो रही सुविधा

एसबीआइ ने किसानों को मौसम एवं फसल की जानकारी दिलाने के लिए मुंबई की आरएमएल कंपनी से अनुबंध किया है। आरएमएल के अनुसार 16 राज्यों में एसबीआइ की करीब 500 ब्रांचों में जुड़े ग्राहकों को कंपनी यह सुविधा दे रही है। अलग-अलग सेवाओं के अलग-अलग रेट तय हैं। इनमें 990 रुपये वार्षिक शुल्क वाली एसएमएस सेवा है।
- See more at: http://www.jagran.com/news/national-without-information-990-crore-deducted-from-the-farmers-accounts-15544941.html?src=newsletter#sthash.Hk68hURc.dpuf
if you have any information regarding Job, Study Material or any other information related to career. you can post your article on our blog.
For Advertisment email us at talkduo@gmail.com

FOLLOW BY EMAIL

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notification of new posts by email.

No comments:

Post a Comment