Ads Top

FIR against IAS officer, 15 others in Bihar SC, ST scholarship scam

एससी एसटी छात्रवृति घोटाले में शामिल वरीय आईएस और तत्कालीन सचिव एमएम राजू सहित सोलह लोगों के खिलाफ में प्राथमिकी दर्ज किया गया है, इसमें विशेष सचिव सुरेश पासवान, इन्द्रजीत मुखर्जी सहायक निदेशक, संजय कुमार परखंड कल्याण पदाधिकारी, सचिव व निदेशक, गोंना इंस्टिट्यूट साइंस टेक्नोलॉजी विशाखापत्तनम सहित सोलह लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज किया गया है जिसमे सचिव पद पर रहते हुए करोड़ो रुपये का बंदरबाट किया है


इन आरोपियों पर धारा 406, 409, 420, 467, 468, 471, 477(ए) 120बी. भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम 1988 के तहत इन पर प्राथमिकी दर्ज हुआ है.इस घोटाले कि जांच के उपरांत इस बात कि पुष्टि हुई है कि ग्रामीण क्षेत्रों के बच्चों को योजनाबद्ध तरीके से संस्थानों में नामांकन कराकर छात्रवृति कि साड़ी राशि का गबन किया गया है.

यह मामला साल 2013-14 में अनुसूचित जाति/जनजाति प्रवेशिकोत्तर परीक्षा से सम्बंधित है निगरानी विभाग ने इसकी जांच मार्च में शुरू किया था जिसमे यह पाया गया कि विश्खापत्तनम कि गोंना इंस्टिट्यूट साइंस टेक्नोलॉजी के 25 छात्र को गलत तरीके से छात्रवृति दी गई है. जांच में यह बात भी स्पष्ट हो गया है कि इस संस्थान से पंद्रह छात्र संस्थान छोड़ चले गए फिर भी उनके छात्रवृति के राशि को भुगतान किया गया है. इसमें गुंटूर अभियंत्रण कॉलेज के निदेशक को भी नामित किया गया है.

No comments:

Powered by Blogger.